बाबा ने दी आँखों की रोशनी

SaiShyam.org | New Delhi | June 27, 2013 | Views : (3567)

मैं रीतिका मल्होत्रा दिल्ली की रहने वाली हूँ। मेरी उम्र 20 साल है। यह मेरी छोटी सी wish जो बाबा ने पूरी की है-

मुझे बचपन से ही चश्मा लगा हुआ था जिसके कारण मैं बहुत परेशान रहती थी। मुझे हर महीने हस्पताल जाना पड़ता था। डॉक्टर ने कह दिया था या तो ऑपरेशन कार्वा लो या तुम्हारा चश्मा नहीं हट सकता।

मैं इस बात से बहुत परशन हो चुकी थी।

आज से 6 साल पहले जब मैं 11th में पढ़ती थी मैं एक सहेली के घर गयी। वो एक किताब में साई राम साई राम लिख रही थी। उसे देख कर मैंने भी लिखना शुरू कर दिया। मैं अपने मन में बोलने लगी कि साई बाबा मेरी भी आँखें ठीक कर दो सभी कि तरह मैं भी बिना चश्मे के देखना चाहती हूँ और मैं वापिस अपने घर आ गई।

अगले ही दिन जब मैं सो कर उठी तो मैंने देखा कि मैं चश्मे में कुछ देख नहीं पा रही थी और बिना चश्मे के सब कुछ दिखाई के रहा था। मैंने दिल्ली के कई डाक्टरों को दिखाया तो सब ने कहा कि अपने चश्मा क्यों लगा रखा है आपकी आँखें तो बिलकुल ठीक हैं। आपको इसकी कोई जरूरत ही नहीं है।

इस बात को सुनकर मैं बहुत खुश हुई और शाम को साई मंदिर जाकर बाबा को Thank You बोला।

इस तरह बाबा ने मेरी आँखें ठीक करी।

रीतिका मल्होत्रा

दिल्ली।

67 votes
3.56716417910448



Post Comments
(All fields are Manadatory.) Close X
Name
Email
Comments

Comments :